गौरी लंकेश के हत्या के पीछे किसकी साजीश : इस खुलासे से डरे भगवा गुंडे - HUMAN

Breaking

Friday, 8 June 2018

गौरी लंकेश के हत्या के पीछे किसकी साजीश : इस खुलासे से डरे भगवा गुंडे

गौरी लंकेश हत्याकांड 


गौरी लंकेश हत्याकांड में किये गये दाखील चार्जशीट में सामने आया की " हिंदुत्व विरोधी " विचारो की वजह से गौरी लंकेश की हत्या हुयी है | गौरी लंकेश हिंदू धर्म और उसकी मान्यताओ के विरोध में लिखती थी, इसकी वजह से उसको निशाना बनाया गया है ऐसा पुलिस द्वारा दायर की गयी ६५१ पेज की  चार्जशीट में कहा गया है जो हत्या के प्रथम आरोपी के. टी. नवीन कुमार के खिलाफ दायर की गयी थी | 




अंग्रेजी दैनिक द हिंदू ने चार्जशीट की एक प्रत अपने पास होणे का दावा करते हुये कहा है की , नवीन की पत्नी रूपा ने सी. एन. ने एसआईटी को दिये अपने बयान में कहां है, की सनातन संस्था से २०१७ से जुडा था | साथ ही उसने कहा है .. उसके पती नवीन कुमार  उसे २०१७ में शिवमोगा लेकर गया था, वहा सनातन संस्था से जुडे लोगो से उसका परिचय कराया था | त्योहार दशहरे के ३ महिने पहले ही उसने अपने पती के पास बंदूक देखी थी | दशहरे पर बंदूक की पूजा की थी | बंदूक किसलीये जब ऐसा रूपा ने अपने पती नवीन से पुछा तो, नवीन ने बताया था की गोलिया नकली है बंदरो को भगाने में उपयोगी होगी |





रूपा ने अपने बयान में यह भी कहा है की, वह उन ४०० हिंदू कार्यकर्ता में शामिल है जिने  गोवा में होणेवाले आयोजित सम्मेलन के लिये चुना गया है, जिसमे नवीन ने भाग भी लिया था | दशहरे के पर्व बाद नवीन ने सनातन संस्था के एक सदस्य को अपने घर पर बुलाया था, रात भर वह उसके साथ उसके मकान में रुका भी था उसके साथ ही गोवा कें संमेलन में नवीन सहभागी हुआ था | ततपश्चात दो महिने बाद वह हुबली में आयोजित ऐसे ही एक प्रोग्राम में सम्मिलीत हुआ था |



टाईम्स ऑफ इंडिया  के मुताबिक एसआईटी को फरार निहाल / दादा साथ ही अमोल काले भी पुलिस कें शक के दायरे मे है | अमोल काले(उम्र ३७ वर्ष ) और एक आरोपी मनोहर यादवे भी अभी पुलिस हिरासत में है | मनोहर यादवे ने स्वीकार किया है की गौरी लंकेश पर नजर रखे था और काले और निहाल को गौरी लंकेश कें हर गतीविधी की सूचना देता था | उसने नवीन के साथ घर से दफ्तर आते जाते गौरी लंकेश का पिछा भी किया था | एसआईटी का कहना स्पष्ट है लेकीन अभी और सबूत जुटाने की आवश्यकता है |