U.P. के सहारनपुर में चारो तरफ मचा हडकंप, एक साथ सेकडो महिलाओ ने अपनाया बौद्ध धर्म - HUMAN

Breaking

Thursday, 7 June 2018

U.P. के सहारनपुर में चारो तरफ मचा हडकंप, एक साथ सेकडो महिलाओ ने अपनाया बौद्ध धर्म

सेकडो महिलाओ ने छोडा हिंदू धर्म 

उत्तर प्रदेश कें सहारनपूर में रोजाना घटीत जातीय हिंसा को देख पिडीत अनुसूचित जनजाती के लोगो  ने हिंदू धर्म का त्याग करदिया है | यहा आये दिन अनुसूचित जन जातियो पर अत्याचार हो रहा है लेकीन पुलिस और प्रशासन का रवैया इसके प्रती काफी निराशाजनक है | इन सब हालातो को देख अनुसूचित जनजातियो के बीच काफी आक्रोश है | 

सहारनपूर कें अनुसूचित जन जाती के महिला ने विरोध में उठायी आवाज 


कुछ दिनो पहले बेहट में पिछडे समुदाय की लोगो ने उनके उपर हो रहे अमानवीय अत्याचार के खिलाफ प्रदर्शन किया था | साथ ही चन्द्रशेखर/ रावण कि रिहाई के लिये भी मांग कि थी | दुबारा रामपूर मनीहारण में इकठ्ठा होकर इसी अपने मांग को पुनः उठाते हुये और प्रशासनिक अफसरो को ज्ञापन सोपते हुये हिंदू धर्म का त्याग कर बौद्ध धर्म को अपना लिया | यह बता दे की इसके लिये पिछडे समाज की महिलाये बडी तादाद में करीब एक बजे के आसपास एकत्रित होकर रामपूर मानिहारण तहसील पहुच गयी | ( यह जगह सहारनपूर दिल्ली रोड पर है, जहा सहारनपूर एक कस्बा है )



चंद्रशेखर रावण और सचिन को रिहा करणे मांग उठायी 

इन महिलाओ द्वारा सौपे गये ज्ञापन में भीम आर्मी के संस्थापक अड्वोकेट चंद्रशेखर रावण और भीम शक्ती के संस्थापक सचिन बाबरे कें समर्थनार्थ रिहाई की मांग के लिये आवाज उठायी | इसके अलावा भीम आर्मी के अन्य कार्यकर्ता लोगो के रिहाई के लिये भी मांग की है और जो भी बेकसूर पिछडे समाज कें लोग गिरफ्तार है उनको निर्दोष बताते हुये उनके रिहाई के लिये भी मांग की है | 

एकसाथ किया हिंदू देवी देवताओ का विसर्जन 

रामपूर मानिहारण क्षेत्र की महिलाओ ने इस क्षेत्र में हिंदू धर्म के देवी देवताओ का विसर्जन करते हुये बौद्ध धम्म को एकसाथ अपनाने का घोषणा कि है | इन महिलाओ का कहना है की हमारे समाज के लोग इस धर्म में सुरक्षित नही है | हिंदू धर्म को त्यागणे के अलावा और कोई विकल्प नही बचा है उनके पास | हिंदू धर्म का त्याग कर परिवर्तन की राह चूनने कें लिये वे मजबूर है | 



कहा नही है सुरक्षित हमारे समाज के लोग 


इस जगह विरोध करते दौरान एकत्रित महिलाओ ने कहा उनके समुदाय पर अत्याचार हो रहा है | शब्बीरपुर हो या रामनगर दोनो ही घटना में प्रशासन द्वारा उनके लोगो पर एकतर्फा कारवाही कर  रही है | महिलाओ ने राष्ट्रप्रती नाम से प्रेषित एक ज्ञापन एसडीएम राकेश कुमार गुप्ता को दिया था | ज्ञापन देणे के बाद यह महिलाये दिल्ली रोड होते हुये राजवाहे कें पुलीया पर पहुची और इस जगहकर देवी देवताओ कें प्रतिमा एवं मुर्तियो को पाणी में बहा दिया |