गुप्तधन की लालच में चढा दी गयी मासूम युग की बली : दो मांत्रिक पुलिस हिरासत में - HUMAN

Breaking

Friday, 31 August 2018

गुप्तधन की लालच में चढा दी गयी मासूम युग की बली : दो मांत्रिक पुलिस हिरासत में



चंद्रपुर जिले के ब्रम्हपुरी तालुका में गयी मासूम युग की जान: मांत्रिक पुलिस हिरासत में


गुप्तधन की लालसा में दो क्रूरकर्मियों ने ब्रम्हपुरी के खंडाला में रहने वाले दो साल के युग अशोक मेश्राम की नरबली देने की पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को स्पष्ट किया। इस मामले में पुलिस ने गांव के ही प्रमोद बनकर(43)व सुनिल बनकर (35) इस खंडाला गांव के ही दो मंत्रिको को हिरासत में लिया है। इस मामले से पूरा चंद्रपुर (महाराष्ट्र )जिला स्तब्ध हैं।

 ऐसे हुआ अपहरण और खून


22 अगस्त को युग अपने भाई के साथ खेलते वक्त अचानक लापता हुआ था। उसे इन आरोपीयो ने उठाकर गांव के ही एक निर्जन कुटिया में बंद करके रखा था।23 अगस्त की रात को उन्होंने उस कुटिया में अघोरी पूजा की और युग की बली दी। उन्हें लाश नदी में डालनी थी। लेकिन पुलिस के सख्त पहरे की वजह से उनका ये प्लान पूरा ना हो सका।उसके डेड बॉडी की बंदोबस्त करने के लिए उन्होंने 29 अगस्त की रात को तनस के ढेर में छुपा के रखा था। 29 अगस्त को को इस ढेर के पास मुर्गियां चोंच मार रही थी उस वजह से शक आया और वहाँ छान बिन की गयी और लाश को कब्जे में लिया गया।


एक साल से कर रहे थे नरबलि की योजना

आरोपीयो को गडचिरोली(महाराष्ट्र)के एक बड़े मांत्रिक ने नरबली दी तो आप मालामाल हो जाओगे ऐसा बताया था। इस अनुसार जिसके माथे पे तीन गोल है ऐसे बच्चे की तलाश वो कर रहे थे।इस तलाश में ही उन्हें युग के सिर पर तीन गोल दिखे। उन्होंने साल भर उसपर नजर रखी। बीच में उन्होंने युग के अपहरण की कोशिश भी की थी।लेकिन वो सफल नही हो सका।


युग मर्डर केस
आरोपी सुनील बनकर और प्रमोद बनकर 


ऐसी थी घटना

22 अगस्त को दोपहर 3.30 बजे युग अशोक मेश्राम ये बालक घर के पास चौक में अपने चार साल बड़े भाई के साथ रेत की ढेर पर खेल रहा था।ऐसे में ही वो लापता हो गया।उसके परिवार वालो ने उसकी जगह जगह तलाश की लेकिन कही भी नही मिला। अंत में ब्रम्हपुरी पुलिस थाने में युग लापता होने की शिकायत दर्ज की गयी। तबसे ब्रम्हपुरी वासियो सहित जिला पुलिस की नींद गायब हो गयी।पुलिस ने सभी घटनाओं पर ध्यान देते हुए युग की तलाश करने की कोशिश की।फिर भी पता नही लगा। अंत में ब्रम्हपुरी पास के तालुका के साथ आसपास के जिले में पुलिस टीम भेज कर जाँच की गयी। स्थानीय जिला शाखा की टीम भी अपने अपने तरीके से जांच कर रहे थे। जिले रेल परिसर और बस स्टॉप पर भी युग के पोस्टर दिखाकर जाँच की गयी। मंगलवार घर के पास के और गांव के सभी लोगो को इकठ्ठा बुलाया गया। 50 लोगो के बयान दर्ज किये गए।इससे कुछ भी हाथ ना लगने की वजह से पुलिस यंत्रणा  निराश हुयी। जाच के दौरान पता चला की गाव के ही सुनील श्रीराम बनकर और प्रमोद श्यामराव बनकर जादुटोने जैसी अनिष्ठप्रथा का अवलंबन कर गुप्तधन की गुप्तधन की तलाश में रहते है | इसी जानकारी के आधार पर पुलिस ने दोनो पर पैनी नजर रखी|  घटना के आठवे दिन २९ अगस्त दोपहर ३ बजे प्रमोद बनकर के घर के पीछे तनस के ढेर में युग का शव मिला | पुलिस ने शव को हिरासत में लेकर इसे पोस्टमार्टम के लिये अस्पताल भेज दिया | संदिग्ध आरोपी सुनील बनकर और प्रमोद बनकर को हिरासत में लिया गया है |