बच्चीयो से रेप केस की मुख्य आरोपी विदेश भागी : अगर न मिली तो कई राज ना खुल पायेंगे - HUMAN

Breaking

Saturday, 4 August 2018

बच्चीयो से रेप केस की मुख्य आरोपी विदेश भागी : अगर न मिली तो कई राज ना खुल पायेंगे

   

कभी पिंजरे मी बंद मिली थी मधु , अब लगा बच्चीयो को बडे लोगो के पास भेजने का आरोप 


⁂   बिहार के बालिका गृह रेप केस में  मुख्य आरोपी मधु के दो महिने पहले विदेश भागणे की आशंका 

  १५ साल पहले देह व्यापार कें लिये लाई गयी लडकियो कें पिंजरे में बंद मिली थी पुलिस को 

  आरोप : ब्रजेश ठाकूर कें साथ आई और बडे लोगो को एनजिओ की लडकिया भेजने लगी 

  अगर मधु सीबीआई को नही मिली तो बालिका गृह केस में कई राज नही खुल पायेंगे 


  2003 में एक युवा आईपीएस अधिकारी दीपिका सूरी ने बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर के कुख्यात रेड लाइट क्षेत्र चतुर्भुज स्थान में ज़बरन देह व्यापार में धकेली गयी लड़कियों को उन बदनाम गलियों से निकालने का बेड़ा उठाया था।

           उसी अभियान में उन्होंने एक दिन एक घर में बने तहख़ाने में से एक बड़े लोहे के पिंजरे में क़ैद दर्जन भर लड़कियों को आज़ाद करवाया था। सारी लड़कियाँ उस लोहे के पिंजड़े में क़ैद थी। और उन्हें वहीं से सीधे देह व्यापार के दलदल में ठेला जाता था। उन छुड़ायी गयी एक दर्जन लड़कियों को बाद में सरकार ने उनके पुनर्वास में मदद की। इन्हीं में से एक 20 साल की लड़की मधु पर ब्रजेश ठाकुर की नजर गई। ब्रजेश ने मधु को नई जिंदगी का ऑफर देते हुए अपने एनजीओ से जोड़ा। मधु जुड़ गई। धीरे-धीरे मधु, ब्रजेश के साथ साये की तरह रहने लगी। ब्रजेश के हर बड़े काम में वह शामिल थी। ब्रजेश के साथ मधु की पावर बढ़ रही थी। और वह फिर अपनी पुरानी जिंदगी की ओर मुड़ने लगी। ब्रजेश और उसके साथियों के लिए बच्चियों और लड़कियों को पहुंचाने का काम मधु करने लगी। रेप केस की जांच कर रहे पुलिस अधिकारियों के अनुसार, ताकतवर लोगों तक बेबस और मजबूर लड़कियों को पहुंचाने के बदले मधु उनसे अपने काम करवाती थी। वह सीधे तौर पर कई बड़े नेताओं और अधिकारियों से जुड़ी थी। उसका कद ब्रजेश के कद से जरा भी कम नहीं था। वह डील करने के लिए पटना से दिल्ली भी आती थी। सूत्रों के अनुसार, पीड़ित बच्चियों ने मधु के खिलाफ ही सबसे ज्यादा आरोप लगाए हैं।


मधु ने खुद को रेडलाइट इलाके में काम करने वाली महिलाओं के लिए काम एक्टिविस्ट के रूप में एंट्री मारी। फिर ब्रजेश ठाकुर की पार्टनर बनी। बाद में इसका प्रभाव इतना बढ़ गया कि नेता-IAS से यही सारा काम करवाती थी। अब ख़बर है की मधु नेपाल के रास्ते विदेश भाग गयी है। इसे आसानी से भागने दे दिया गया। मधु के भागने के साथ ही मुज़फ़्फ़रपुर बालिका गृह बलात्कार कांड के कई राज़ भी भाग रहे हैं।
यही है उस मधु की तस्वीर जो ख़ुद कभी देह व्यापार के दलदल में धकेली गयी थी और बाद में ख़ुद ही अनाथ बच्चियों से देह व्यापार करवाती थी।


बालिका का गृह बंद करणे को कहा था 


बिहार के मुजफ्फरपूर में सेवा संकल्प एवं विकास समिती संस्था के शेल्टर होम मामले में एक और खुलासा हुआ है | बिहार बाल अधिकार संरक्षण आयोग एससीपीसीआर कि अध्यक्षा ने कहा है की उन्होने शेल्टर होम कें खिलाफ २०१७ में ही समाज कल्याण विभाग को पत्र लिखकर कारवाई करणे को कहा था | लेकीन इस मामले में सरकार की तरफ से कोई ऐक्शन नही लिया गया | 

आर्म्स लाइसेन्स कैन्सल

ब्रजेश ठाकूर के आर्म्स लाईसेन्स को कैन्सल कर दिया गया है | मुजफ्फरपूर कें जिल्हाधिकारी मोहम्मद सोहैल ने ये कारवाई की | जिल्हाधिकारी ने नगर ठाणा से जारी एक पिस्टल व एक राईफल का लाईसेन्स निलंबित करते हुये ब्रजेश ठाकूर को दो दिनो में जमा करणे का आदेश दिया गया है |